बसंत पंचमी : बसंत-बहार शेर-ओ-शायरी जो आपका दिल छू जाए
Basant Panchami : Best Heart Touching SHAYARI in Hindi


भरी बहार में इक शाख़ पर खिला है गुलाब
कि जैसे तू ने हथेली पे गाल रक्खा है
                                    -- अहमद फ़राज

गए मौसम का इक पीला सा पत्ता शाख़ पर रह कर
न जाने क्या बताना चाहता है इन बहारों को
                                                          -- नाज़िम

दोस्तों जश्न मनाओ कि बहार आई है
फूल गिरते हैं हर इक शाख़ से आँसू की तरह
                                 -- उबैदुल्लाह अलीम

 ख़ुशबू का क़ाफ़िला ये बहारों का सिलसिला
पहुँचा है शहर तक तो मीरे घर भी आएगा
                                       -- मंसूर उस्मानी

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौबहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले।
                                   ~ फैज़ अहमद फ़ैज

गुंचो के मुस्कराने पे कहते हैं हंस के फूल
अपना करो खयाल हमारी तो कट गई।
                              ~ 'शाद' अजीमाबादी

जिस्म तो बहुत संवार चुके रूह का सिंगार कीजिए,
फूल शाख से न तोड़िए खुश्बुओं से प्यार कीजिए।
                                               ~ सागर आज़मी

गुलशन-परस्त हूँ, मुझे गुल ही नहीं अजीज
कांटो से भी निबाह किये जा रहा हूं मैं।
                                ~ जिगर मुरादाबादी

माना कि बहारों ने खिलाया है गुलों को,
उल्फ़त की कली दिल में वफ़ाओं ने खिलाई।
                                       ~ नसीम अख्तर

कांटा समझ के मुझसे न दामन बचाइए,
गुजरी हुई बहार की इक यादगार हूं।
                             ~ मुशीर झंझानवी

➽ दोस्तों 'सफलता सूत्र ' के  हमारे  यूट्यूब चैनेल 'Safalta Sutra सफलता सूत्र ' पर  इस  विषय से संबंधित  शेर-ओ-शायरी पर विडियो अवश्य देखें :-