Halloween party ideas 2015

दीपावली विशेष लेख 2017 
इन लोगों पर होती है लक्ष्मी जी मेहरबान, कभी नहीं होती रुपए-पैसे की कमी


                                                              देवी लक्ष्मी जी को धन-संपत्ति की अधिष्ठात्री देवी के रूप में पूजा जाता है। यदि आप चाहते हैं कि आपके घर-परिवार, जीवन में मां लक्ष्मी जी की कृपा सदा बनी रहे तो यह जानना जरूरी है कि लक्ष्मी जी किन लोगों पर कृपा बरसाती है और जिनके पास कभी धन-दौलत की कमी नहीं होती -
सौभाग्यशाली - जो अपने भाग्य के भरोसे नहीं बैठकर निरंतर निस्वार्थ भाव से कर्म करते हुए अपना भाग्य बदलने प्रयासरत रहता है।
सच्चरित्र - जो अपने चरित्र पर दिखावे या बुरे कर्म का दाग न लगने दे, साथ ही अपने सद्कर्मों के साथ पुरुषार्थ में लगा हो।
जितेंद्रिय - जितेंद्रिय यानि जिसने अपनी इंद्रियों पर नियंत्रण पा लिया हो, जो इंद्रियों के वश में न होकर अविराम अपनी मंजिल की ओर बढ़ते जाता है।
कर्तव्यपरायण - जो अपने कर्तव्य के प्रति समर्पित हो और मुश्किलें आने पर भी अपने पथ से न डिगे।
कृतज्ञ - जो अपने दिशा निर्धारकों, सच्चे मित्रों या सहयोगियों, विषम परिस्थियों के मददगारों का कृतज्ञ हो।
अक्रोधी - जिसने अपने क्रोध पर विजय पा लिया हो और नकारात्मक विचारों को दूर कर जीवन से क्रोध निकालकर सकारात्मक रहता हो।
निडर - जो हर विषम परिस्थितियों एवं राह में आने वाली रुकावटों का निडरता के साथ जूझते हुए आगे बढ़ता हो।
ईश्वर पर विश्वास - जो जीवन में आने वाले सुख-दुःख के प्रति समभाव रखते हुए ईश्वर पर दृढ़ आस्था व विश्वास रखता हो।
स्वयं पर भरोसा - जो अपनी क्षमता और योग्यता पर विश्वास करते हैं, जो अपने भीतर छिपी क्षमता को उभार कर, प्रतिभा को निखार कर जितना आगे बढ़ता है, लक्ष्मी जी वहां स्वयं उपस्थित रहती हैं।
जागरूक - लक्ष्मी जी का वाहन है उल्लू। उल्लू प्रतीक है जागरूकता का, चौकसी का। जो जीवन के प्रति जागरूक हैं वहीं लक्ष्मी जी का वास है।
सृजनशीलता - जो जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सृजनशीलता एवं रचनात्मकता को शामिल कर आगे बढ़ता है। लक्ष्मी जी वहां स्वयं चली आती हैं।

➽ दोस्तों 'सफलता सूत्र 'के हमारे यूट्यूब चैनेल 'सफलता सूत्र ' पर  दीपावली के इस लेख से संबंधित  उपयोगी विडियो अवश्य देखें :- 
                                            https://youtu.be/qNEEIbAeQ44


खतरनाक है दिल से दिल्लगी 



                                                 प्राचीन काल से मानव शरीर का केंद्र बिंदु रहा है 'हृदय'। हृदय जिसे दिल कहा जाता है। हमारे जीवन में दिल की क्या अहमियत है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि साहित्य एवं फिल्मों से लेकर मेडिकल साइंस तक सबसे ज्यादा महत्व दिल को दिया जाता है। मानवीय भावनाओं-संवेदनाओं एवं रिश्तों-संबंधों में भी दिल की मुख्य भूमिका मानी जाती है। जिस दिल को इतना महत्वपूर्ण स्थान मिला है हमारा भी यह दायित्व होना चाहिए कि उसकी देखभाल पूरे दिमाग के साथ करें।
                                              आज की आपाधापी जिंदगी में बीमारियां भी उतनी ही आपाधापी से आक्रमण कर रही है। मोटापा, तनाव, डिप्रेशन, नशा, प्रदूषण एवं कई अन्य कारणों से दिल पर सबसे ज्यादा बोझ पड़ने लगा है, जिससे दिल का दौरा भी। पहले जहां उम्रदराज लोग इसकी चपेट में आते थे, वहीं अब तो युवावर्ग भी इससे बच नहीं पा रहे हैं।
                                              बेहतर स्वास्थ्य और स्वस्थ हृदय के लिए कोई शार्टकट नहीं है, पर हाँ स्वास्थ्यवर्धक भोजन, नियमित योग-कसरत, भरपूर नींद, नशे से दूरी, समय-समय पर चेकअप आदि कुछ ऐसी बातें हैं जिसे अपनी नियमित दिनचर्या में शामिल करें तो निश्चित रूप से हमारे दिल की धड़कन जीवन भर सही ढंग से धड़कता रहेगा। 
आइए जानें कुछ बातें जिन्हें अपनाकर हम हृदयाघात व हृदय संबंधी बीमारियों से बच सकते हैं।

क्रोध पर नियंत्रण रखें - बार-बार क्रोध करने से दिल के क्षतिग्रस्त होने की आशंका बढ़ जाती है, साथ ही यदि आप क्रोध को दबाने की कोशिश करते हैं तो यह भी हृदय के लिए अच्छा नहीं है। गुस्से को मैनेज करने में ही दिल दुरुस्त रह सकता है, इसके लिए क्रोध की स्थिति में आँखें बंदकर 10-15 बार गहरी-लंबी साँस लें जिससे बढ़ा हुआ एड्रेनलिन नियंत्रित हो सके ताकि नकारात्मकता की अनुभूति बंद हो जाए।

फास्ट फूड बनाए दिल का मरीज - सप्ताह में 4 बार या उससे ज्यादा बार फास्ट फूड खाने वाले लोगों में हृदय की बीमारी से मौत की आशंका कई गुना बढ़ जाती है, इसलिए फ़ास्ट फ़ूड से बचें।

तनावमुक्त जीवन जिएं - ध्यान या योग के द्वारा तनावमुक्त होने का तरीका दिल को सुरक्षित रख सकता है। एकाग्रता की स्थिति प्राप्त करने वाले लोगों में हृदय 85 प्रतिशत अधिक स्वस्थ रहने की संभावना होती है। परेशानियां बांटने से मन हल्का होता है। तनाव से बचने के लिए प्रतिदिन 6 से 8 घंटे की नींद जरुर लें। लंबे काम के दौरान ब्रेक जरुर लें और खुद को रिलेक्स करें।

संतुलित आहार लें -घी-तेल से बनी चीजें जैसे पूड़ी, पराठे, समोसे, कचौड़ी, चाय-कॉफ़ी, कोल्ड ड्रिंक, एनर्जी ड्रिंक का अत्यधिक सेवन हृदय के लिए घातक है। इन चीजों के स्थान पर हरी-पत्तेदार सब्जियों, मौसमी फलों, अंकुरित अनाज, सलाद, जूस, छाछ, नारियल पानी आदि को प्राथमिकता दें। चीनी एवं नमक की अधिक मात्रा भी हृदय रोगों का कारण बनता हैं, इनसे बचें। दिन के मुकाबले रात में हल्का भोजन लें।

व्यायाम का करें नियमित अभ्यास  -सूर्योदय से पहले उठकर नित्यकर्मों से निवृत्त होकर क्षमतानुसार प्रात: भ्रमण करें। गहरी सांस लेते हुए तेज चलें, दौड़ लगाएं, साइकिलिंग करें। कसरत, योग एवं प्राणायाम का नियमित अभ्यास करें। ऐसा करने से मांसपेशियों को नई शक्ति मिलती है, शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है जिससे हृदय स्वस्थ रहता है।

संगीत से दिल को दें आराम - 30 मिनट तक संगीत सुनने से धमनियों का कड़ापन दूर होता है एवं नाड़ी की गति सुधरती है। दिल के धमनियों के माध्यम से खून पंप करने में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका रहती है।

खर्राटों को अनदेखा न करें - खर्राटे संकेत देते हैं कि दिल के साथ कुछ समस्या है, खर्राटे दिमाग को ऑक्सीजनयुक्त खून सप्लाई करने वाली केरोटिड धमनियों में गड़बड़ी की ओर इशारा करते हैं। शोर भरे खर्राटों का संबंध नींद पूरी न होने से है। इसमें ब्लड प्रेशर, दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा बढ़ता है। इसके लिए चिकित्सक की सलाह जरुर लें।

अकेलापन नुकसानदेह - अकेले रहने वाले लोगों के दिल के दौरे, स्ट्रोक या हृदय संबंधी बीमारियों से मरने की आशंका बढ़ जाती है। मजबूत पारिवारिक व सामाजिक संबंधों का अच्छे स्वास्थ्य और दीर्घायु से सीधा संबंध है।

समय पर कराएं जांच - तीस साल की उम्र पूरी होते ही हृदय की करवाएं। इसमें उच्च रक्तचाप, कॉलेस्ट्रोल एवं डायबिटिज की सामान्य जांच होती है। इसके बाद प्रतिवर्ष यह जांच करवाते रहें। परिवार में पहले किसी को हृदय संबंधी बीमारी रही हो तो खतरे की दोहरी आशंका होती है। ऐसे में दिल की रेगुलर जांच करवाते रहें।


                                                                                                    ➤ उमेश कुमार 

➽ दोस्तों 'सफलता सूत्र ' के  हमारे  यूट्यूब चैनेल 'सफलता सूत्र ' पर उक्त  विषय से  संबंधित  उपयोगी  विडियो अवश्य देखें :- 

https://www.youtube.com/watch?v=JSpWPCDLCMU