योग रोगों से बचने का नि:शुल्क और सबसे बेहतर उपाय है। योग हर परिस्थिति में हमारे शरीर को स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है लेकिन योग करने से पहले कुछ ध्यान देने योग्य बातें हैं। योग कैसे करना चाहिए तथा इसे करने से पहले और बाद में क्या करना चाहिए और क्या नहीं. इन बातों को अपनाने से योग का अधिक फायदा प्राप्त होता है। कुछ आवश्यक सावधानियों पर ध्यान देना आवश्यक है,लीजिये प्रस्तुत है इससे सम्बंधित  महत्वपूर्ण जानकारी - 
-- योगासन प्रात: काल शौच आदि से निवृत्त होने के बाद ही करना चाहिए। यदि स्नान करने के बाद योगासन किया जाये तो और भी अच्छा है, क्योंकि स्नान करने से हमारा शरीर हल्का-फुल्का और स्फुर्तियुक्त बन जाता है. 
-- संध्याकाल में भोजन करने से पहले योगासन करना चहिये. आसन करने की जगह समतल,स्वच्छ और शांत होना चहिये. जमीन पर मोटी दरी या कालीन आदि बिछाकर योगासन करना चहिये. 
-- अभ्यास करते समय घड़ी,चश्मा या आभूषण आदि न पहने. 
-- योगासन बलपूर्वक या झटके के साथ नहीं करें। इससे शरीर में तकलीफ हो सकती है।
-- आसन करते समय बातचीत न करें। यदि आसन एकाग्रता से किये जाएँ तो शारीरिक और मानसिक लाभ अधिक मिलते हैं।
-- योगासन करते समय कपड़े ढीले पहनने चहिये. 
-- मासिक धर्म,गर्भावस्था,जटिल रोगों,बुखार आदि के दौरान आसन न करें। या फिर किसी योग प्रशिक्षक से मार्गदर्शन अवश्य लें।
-- आसनों की संख्या और उनकी अवधि धीरे-धीरे बढ़ानी चाहिए। पहले ही दिन अधिक आसन कर डालने का प्रयास हानिकारक हो सकता है।
-- यदि आसन करते समय शरीर के किसी भाग में दर्द होता हो तो उस आसन का अभ्यास तुरंत बंद कर दें।
-- आसन करते समय यथासम्भव हल्का भोजन करना चाहिए, ताकि शरीर हल्का-फुल्का रहे।
-- योगासन करते समय शरीर को हवा का सीधा झोंका न लगे यह ध्यान रखना चाहिए। 
-- योगासन करते समय शरीर के किसी भी जोड़ को उसके कुदरती मोड़ के अनुसार ही मोड़ना चाहिए। कभी भी उल्टे  या तिरछे होने का प्रयत्न न करें।
-- योगासन के अभ्यास का क्रम का भी ध्यान अवश्य रखें पहले आसन फिर प्राणायाम और अंत में ध्यान करें।