Halloween party ideas 2015

   
                     
अंधेरे से उजाले के शाश्वत संघर्ष का प्रेरणा पर्व दीपावली हमारी परम्परा की समृद्ध मिसाल है। रोशनी का यह पावन पर्व सिर्फ औपचारिकताओं व कृत्रिमता का उजाला नहीं बल्कि यह अपने अंतरमन के अंधियारे को निकाल नव उजास से भरने का महापर्व है।
                           आज जबकि सर्वत्र सामाजिक विषमताओं का गहन अंधेरा गहराता जा रहा है। भौतिक सुख-सुविधाओं का दायरा अविराम बढ़ते जा रहा है साथ ही दिलों की दूरियां भी। जाति, धर्म, पहचान, अमीरी, गरीबी, प्रतिस्पर्धा की कैद में हमारे सनातन संस्कारों का दम घुटता सा जा रहा है।
                             जरा गम्भीरता से सोचिये क्या अर्थ है पर्व उत्सवों के महज औपचारिक निर्वाह का। नि: संदेह व्यापक अर्थ है, उत्सव हमें जीने का नया अर्थ देते हैं, हमारे सपनों हमारी आशाओं को गगन सा विस्तार देते हैं, हमारी खुशियों में नये रंग भरते हैं। नन्ही नन्ही दीपों का अँधेरे से संघर्ष समर्पण का संदेश देती है तो उत्सव पर्वों से उपजी उमंगें हमारी आशाओं को धरातल मुहैया कराते हैं।
                            दीपावली न सिर्फ एक दिन का पर्व है, बल्कि हर दिन दिलों को जगमगाए रखने का प्रेरणा पर्व है।
                            आइये दिलों में फिर से आशाओं का महान उजास भरें। प्रेम की बाती अपने अंतरमन के दीप में रख जलाएं। आओ हिल-मिल दीपावली मनाएं।

" शुभ दीपावली - मंगलमय दीपावली "
आप सभी मित्रों को श्री-समृद्धि की मंगलकामनाएं।

Post a Comment