Halloween party ideas 2015

आज है बुराई पर अच्छाई और असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक पर्व विजयादशमी। आज ही के दिन हुआ था अधर्म, अशुद्धि,अंधविश्वास,अपवित्रता,अहंकार,अपराध,अनैतिकता,अभद्रता,अशुभता,अज्ञानता रुपी रावण का अंत।
बुराई रुपी रावण के इन दस सिरों को काट फेंके फिर देखें जीवन में रामराज्य का आगमन।
1. अहंकार -
अहंकार की आग में मनुष्य खुद ही जलकर खाक हो जाता है। यह मनुष्य की सबसे बड़ी कमजोरी है। रावण का अहंकार ही उसे ले डूबा था। इसलिए अहंकार छोड़ें।
2. लालच -
लालची रावण ने भगवान शंकर से सोने की लंका मांग ली। लेकिन लालच बुरी बला। हनुमान जी ने सोने की लंका को जला डाला।
3. क्रोध -
क्रोधाग्नि में मनुष्य का विवेक नष्ट हो जाता है और वह भले बुरे का अंतर भूल बैठता है। एक समय आता है जब क्रोधाग्नि उसे खुद ही जला देती है। क्रोध करने से बचें।
4. आलस्य -
आलसी मनुष्य जीवन में कभी विकास नहीं कर सकता। क्योंकि जो मेहनत नहीं करेगा उसे न तो धन संपदा मिलेगी न मान सम्मान।
5. नशा -
नशा नाश की जड़ है। बस मात्राओं का हेर फेर है। नशा करने वाली चीजों जैसे शराब, तंबाकू, गुटखा, पान मसाले, गांजा आदि चीजों से हमें दूर रहना चाहिए।
6. अंधविश्वास-
आज जब हम मंगल पर कदम रखने वाले है यानि मंगल हम पर नहीं हम मंगल पर सवार हो गये है। ऐसे में अंधविश्वास से दूर रहें। बिना वैज्ञानिक कारण जाने अंधविश्वास पर विश्वास न करें।
7. निंदा -
अक्सर देखने में आता है लोगों को परनिंदा में बहुत आनंद आता है। लेकिन यह निंदा तमाम बुराइयों की जड़ है। निंदा से न केवल हमारा अमुल्य समय नष्ट होता है बल्कि हमारा आत्मविश्वास भी कमजोर करता है।
8. जलन -
जलन की आग किसी को तो नहीं खुद को पल पल जलाती है। पड़ोसी, रिश्तेदारों, मित्रों से जलन नहीं सदभाव रखें फिर देखें आप कैसे विकास करते हैं।
9. काम वासना -
कामांध रावण ने माता सीता का हरण किया लेकिन अंत दुखद हुआ। अंतत: भगवान राम ने रावण का वध किया। काम वासना से बचें।
10. भ्रष्टाचार -
भ्रष्टाचार से देश, समाज खोखला हो जाता है। यह राष्ट्र के विकास में सबसे बड़ी बाधा है। भ्रस्टाचार से दूर रहने का संकल्प ले।
सभी मित्रों को विजयादशमी पर्व की हार्दिक मंगल कामनाएं।


Post a Comment