Halloween party ideas 2015

भगवान शंकर की आराधना का दिन                          
प्रतिवर्ष फाल्गुन कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को भगवान शंकर का जन्मदिवस महाशिवरात्रि का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। 
आज के दिन भक्तिभाव से मांगा हुआ वर भोलेनाथ अवश्य पूरा करते हैं। भगवान शिव की आराधना से समस्त परेशानियों से छुटकारा मिलता है।
महाशिवरात्रि का दिन महाशुभ होता है, इस दिन से विभिन्न शुभ कार्य, गृह प्रवेश, निर्माण कार्य, व्यवसाय प्रारंभ,पूजा पाठ आदि प्रारंभ किये जाते हैं।
" महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभ कामनाएं".

यदि आपको लगता है आप बवासीर के चंगुल में फंसने वाले है। 
आप कब्ज के रोगी हैं और मल त्याग करते समय काफी जोर लगाना पड़ता है। 
अपच व कब्ज के कारण मल कठोर होकर बाहर आता हो और गुदा द्वार फट जाता हो, तो हो सकता यह धीरे धीरे बवासीर का रूप धारण कर ले।
लीजिये प्रस्तुत है आपके लिए एक रामबाण कारगर नुस्खा जो आपको बवासीर के दलदल में फंसने से बचा सकता है।
नुस्खा -  
नारियल, तिल या मूंगफली का तेल (ठण्ड के दिनों में सरसों का तेल) साफ उंगली या रुई में लगाकर गुदा में लगभग एक इंच अंदर डालकर अच्छे से लगा लें.इस प्रयोग को हर सप्ताह एक बार करें। 
इससे बवासीर व अन्य गुदा संबंधी विकार धीरे-धीरे खत्म हो जाता है. कब्ज के रोगियों के लिए तो यह प्रयोग अति लाभकारी है.
नोट- इस उपाय को किसी भी उम्र के बच्चे,बड़े सभी कर सकते हैं.

Valentine Day Quotes in Hindi

प्रेम पर इन महानुभाओं के महान विचार -
यह वह अमृत बूंद है, जो मरे हुए भावों को जिंदा करती है। यह जिंदगी की सबसे पाक, सबसे ऊंची, सबसे मुबारक बरकत है।
"मुंशी प्रेमचंद"
प्रेम से जीवन को अलौकिक सौंदर्य प्राप्त होता है। प्रेम से जीवन पवित्र और सार्थक हो जाता है। प्रेम जीवन की सम्पूर्णता है।
"डॉ. महावीर प्रसाद द्विवेदी"
प्रेम चतुर मनुष्यों के लिए नहीं है, वह तो शिशु-से सरल हृदय की वस्तु है।
"जय शंकर प्रसाद"
प्रेम एक संजीवनी शक्ति है, संसार के हर दुर्लभ कार्य को करने के लिए यह प्यार संबल प्रदान करता है, आत्मविश्वास बढ़ाता है, यह असीम होता है। इसका केंद्र तो होता है लेकिन परिधि नहीं होती।
"आचार्य रामचंद्र शुक्ल"
प्रेम अपनी गहराई को वियोग की घड़ियां आ पहुंचने तक स्वयं नहीं जानता।
"खलील जिब्रान"
एक फूल नहीं खिल सकता, अगर धूप न हो और कोई इंसान मोहब्बत के बिना जी नहीं सकता।
"मैक्स मूलर"
प्रेम अहसास है बंधन नहीं। प्रेम मुक्त भाव से करें ताकि पाने वाले को बंधन नहीं, बल्कि स्वतंत्रता का आभास हो।
"बुद्ध"
प्रेम में बड़ी कोई शक्ति है? नहीं! क्योंकि जो प्रेम को उपलब्ध होता है, वह भय से मुक्त हो जाता है।
"ओशो"
ये इश्क नहीं आसां इतना तो समझ लीजिए, 
इक आग का दरिया है और डूब के जाना है।
"मियां ग़ालिब